वयोवृद्ध कलाकार सतीश गुजराल का 94 साल की उम्र में निधन

नई दिल्ली, 27 मार्च (आईएएनएस)। जाने-माने कलाकार और वास्तुकार सतीश गुजराल का गुरुवार देर रात 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया। सतीश गुजराल देश के दूसरे सबसे बड़े पुरस्कार पद्म विभूषण (1999) से सम्मानित थे, और उच्च प्रतिष्ठित चित्रकार थे। वह पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के छोटे भाई थे। उनकी मृत्यु पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य गणमान्य लोगों ने शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, सतीश गुजराल जी बहुमुखी और बहुआयामी थे। उन्हें अपनी रचनात्मकता के साथ-साथ ²ढ़ संकल्प की प्रशंसा मिली, जिसके साथ उन्होंने प्रतिकूल परिस्थितियों पर काबू पाया। उनकी बौद्धिक प्यास उन्हें बहुत आगे ले गई। लेकिन वह अपनी जड़ों से जुड़े रहे। उनके निधन से बहुत दुख हुआ। ओम शांति। गुजराल का जन्म 25 दिसंबर, 1925 को अविभाजित भारत में हुआ था। उन्होंने लाहौर और मुंबई में कला का अध्ययन किया था। सुप्रसिद्ध कलाकार गुजराल उन कुछ लोगों में से एक थे, जिन्होंने स्वतंत्रता के बाद भारत में कला परि²श्य पर लगातार अपना दबदबा कायम रखा है। वह एक अच्छे वास्तुकार भी थे। उन्होंने नई दिल्ली में बेल्जियम दूतावास की इमारत डिजाइन की है। भारत के उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने ट्वीट किया, प्रख्यात चित्रकार, कलाकार, मूर्तिकार श्री सतीश गुजराल के निधन के बारे में जानकर बहुत दुख हुआ। राष्ट्र हमेशा कला और संस्कृति क्षेत्र में उनके योगदान को याद रखेगा। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें। .Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.....Veteran artist Satish Gujral dies at the age of 94. ..

वयोवृद्ध कलाकार सतीश गुजराल का 94 साल की उम्र में निधन
नई दिल्ली, 27 मार्च (आईएएनएस)। जाने-माने कलाकार और वास्तुकार सतीश गुजराल का गुरुवार देर रात 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया। सतीश गुजराल देश के दूसरे सबसे बड़े पुरस्कार पद्म विभूषण (1999) से सम्मानित थे, और उच्च प्रतिष्ठित चित्रकार थे। वह पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के छोटे भाई थे। उनकी मृत्यु पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य गणमान्य लोगों ने शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, सतीश गुजराल जी बहुमुखी और बहुआयामी थे। उन्हें अपनी रचनात्मकता के साथ-साथ ²ढ़ संकल्प की प्रशंसा मिली, जिसके साथ उन्होंने प्रतिकूल परिस्थितियों पर काबू पाया। उनकी बौद्धिक प्यास उन्हें बहुत आगे ले गई। लेकिन वह अपनी जड़ों से जुड़े रहे। उनके निधन से बहुत दुख हुआ। ओम शांति। गुजराल का जन्म 25 दिसंबर, 1925 को अविभाजित भारत में हुआ था। उन्होंने लाहौर और मुंबई में कला का अध्ययन किया था। सुप्रसिद्ध कलाकार गुजराल उन कुछ लोगों में से एक थे, जिन्होंने स्वतंत्रता के बाद भारत में कला परि²श्य पर लगातार अपना दबदबा कायम रखा है। वह एक अच्छे वास्तुकार भी थे। उन्होंने नई दिल्ली में बेल्जियम दूतावास की इमारत डिजाइन की है। भारत के उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने ट्वीट किया, प्रख्यात चित्रकार, कलाकार, मूर्तिकार श्री सतीश गुजराल के निधन के बारे में जानकर बहुत दुख हुआ। राष्ट्र हमेशा कला और संस्कृति क्षेत्र में उनके योगदान को याद रखेगा। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें। .Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.....Veteran artist Satish Gujral dies at the age of 94. ..